इस तरह करे महाशिवरात्रि पे शिवजी को प्रसन्न... - DO YUVA NEWS

Trending news, technical news biography news,politics news, national news , international news, general knowledge news, sports news, economics news, social media news, entertainment news, viral videos news, health news etc. all type news available here.

Breaking

Home Top Ad

Post Top Ad

Sunday, March 3, 2019

इस तरह करे महाशिवरात्रि पे शिवजी को प्रसन्न...

MAHASHIVRATRI PAR ASE KARE SHIV JI KO PRSANNA


दोस्तों कल महाशिवरात्रि  है ओऱ हम शिवरात्रि पे शिव जी की पूजा करते हे लेकिन हमें पता नही रहता है कि शिवरात्रि क्यों मनाते है ?


दोस्तों हम महाशिवरात्रि पे शिव जी की पूजा तो करते हे लेकिन हमें पता नही रहता की पूजा कैसे करते, ओऱ क्या उपाय करने से शिव जी प्रसन्न हो सकते  हैं ?



इन सारे सवालो के ज़वाब आपको आज मिल जायेंगे इस ब्लॉग पे तो बने रहे हमारे साथ ओऱ जानिए शिवरात्रि की ख़ास जानकारी...


mahashivratri

MAHASHIVRATRI 2019

महाशिवरात्रि  क्यों मनाते है ??

उत्तर भारत की कथा :


एक बार शिव जी और सति जी दंडकारण्य में से गुज़र रहे थे ओऱ उनोन्हे जाते जाते श्रीराम जी ओर लक्ष्मण जी को देखा। जो देवी सिता माँ को ढूंढ रहे थे। तभी शिव जी ने उन्हे प्रणाम किया और माँ सति को भ्रम हो गया की ऐसा कैसे हो सकता है कि निराकार भगवान साकार हो जाये ओऱ साकर हो भी गया तो अपनी पत्नी को ढूंढ रहा है। वह तो सर्वज्ञ हे सर्व अंतर्यामी है। उनको मालूम होना चाहिए की उनकी पत्नी  कहा है। सति जी को यह भ्रम हो जाता हे  शिव जी उन्हें बहुत समजाते हे लेकिन सति जी नही मानती है । तो शिव जी कहते हे की आप उनकी परीक्षा ले लो , तब सति जी सिता माँ का वेश धारण करती है । ओऱ एक जगह बैठ जाती है तभी श्रीराम जी का ध्यान उनकी और जाता हे ओऱ वह तुरंत पहचान लेते है कि  सिता जी के रूप में माता सति जी बैठी हे वह पास जाकर कहते हे की माता  पिता जी कहा है । ऐसा देख के माँ सति जी को  ओऱ  भ्रम हो जाता है । वह वापस शिव जी के पास जाती है ओऱ झूट कहती हे की मेने राम की परीक्षा नहीं ली है।


शिवजी अंतर्यामी हे इसलिए वह जान जाते हे की यह मेरे माता सिता का वेश धारण कर के गयी थीपरीक्षा लेने के लिए  अतः उनोन्हे सोचा की सति जी ने तो मेरी माता का स्वरुप धारण किया है तो इस जन्म में तो इनके साथ  पति पत्नी का रिश्ता नहीं रह सकता  इसलिए शिव जी ने अपने मन ही मन सति जी को त्याग दिया था । सति जी को भी यह समझ गया कि शिव जी ने उन्हें त्याग दिया है।


एक दिन जब दक्ष  जो सति जी के पिता थे वह यज्ञ करा रहे थे लेकिन शिव जी को नही बुलाया था।
लेकिन सति जी जिद करने लगी की में भी जाऊंगी तब सति जी यज्ञ करने जाती है। वहा जब सति जी गयी तो उनकी बहनोँ ने उनसे जादा बात नही की लेकिन माँ ने उनका स्वागत किया। बाद में सति जी यज्ञ में जाती हे तो देखती हे की वह शिवजी का आसन नही रहता यह शिव जी का अपमान समझकर सति जी वही योग अग्नि में अपने आप को भस्म कर लेती है । इसके बाद श्री राम भगवान शिव जी के पास जाते हे ओर कहते हे की जब आपके पास शादी का प्रस्ताव आएगा तब हाँ कर दीजिएगा।


इसके बाद यही सति जी माता पार्वती का अवतार लेकर आती हे, पिता हिमनरेश ओऱ माता मैना के घर में, उसके बाद नवयोगी ऋषि माँ पार्वती की परीक्षा लेते हे । माँ पार्वती जी कहती हे की में शिवजी से शादी करुँगी नही तो अनंत काल तक कुँवारी रहूँगी।उसके बाद  शिवजी और माता पार्वती की शादी होती है, ओऱ वह दिन महाशिवरात्रि के पर्व में मनाया जाता है।


mahashivratri

MAHASHIVRATRI 2019


यह १० उपाय करके शिव जी को करे प्रसन्न :


1 ) महाशिवरात्रि के दिन रात में शिव जी के मंदिर में  घी अथवा तेल का दीपक जलाये शिवपुराण के अनुसार  धन के देवता कुबेर देव ने रात में शिव जी के पास रोशनी की थी इसलिए वह अगले जन्म में देवताओ के कोषाध्यक्ष बने थे।

2 ) शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर जल धारा से अभिषेक करे ओऱ मन में ॐ नमः शिवाय का जाप करे ओर शिव जी से रोजगार ओऱ मनचाही नोकरी की प्राथर्ना करे ऐसा करने से  रोज़गार ओर मन चाही नोकरी की इच्छा पूरी होती है.

3 ) यदि आप छात्र हे ओऱ पढाई  में आपका मन नही लगता ओऱ एकाग्रता नही हो रही  है तो जल में थोड़ा सा धुँध मिलाकर शिवजी के शिवलिंग पर अभिषेक करिये इस से आप शांति महसूस करंगे और आपकी मन की एकाग्रता बढ़ेगी।

4 )  हनुमान जी और शिव जी का ही रूप माने जाते हे शिवरात्रि के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करने से भक्तों के उपर शिव जी ओऱ हनुमान जी हमेशा पसन्न रहते है ओर भक्तो की समस्या का निवारण करते हे।


5 ) यदि आपको अपार धन चाहिए तो दही, धुँध शक्खर, शहद , घी,  इ. का अभिषेक शिवलींग पर कीजिये । ध्यान रहे यह सब चीजें आपको एक- एक कर के शिवलिंग पर अभिषेक करनी है एक साथ बिलकुल न मिलाए। इसके बाद जलधारा अर्पित करें और ॐ पार्वती पते नमः का जाप करे जितना आप से हो सके उतना जाप करे बाद में धन प्राप्ति की प्रार्थना करे।

6 ) महाशिवरात्रि के दिन आप अपनी पत्नी को लाल साड़ी लाल चुड़िया अथवा कुम कुम का उपहार दे इस से आप का वैवाहीक जीवन सुखी समृद्ध होता है।

7 ) शिवरात्रि के दिन प्रातः काल सूर्योदय से पहले उठकर नहाने के जल में तील डालकर ॐनमः शिवाय का जाप करे अथवा महामृत्यंजय जप का जाप करते हुए स्नान करें ओऱ बाद में शिव जी की पूजा करे।

8 ) शिवरात्रि के दिन अगर आप भगवान शिव जी पर बेलपत्र अर्पित करते हे तो संतान संबंधी , समस्या पापो का नाश , रोजगार में लाभ सुख समृद्धि जैसे लाभ मिलते है।

9) महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर गंगा जल से अभिषेक करने से  मोक्ष की प्राप्ति ऒर पाप का नाश होता है अगर जल में गुलाब की पंखुरी डालते है तो रोगों से भी निवारण होता है।

10 )  भांग और धतूरा  यह दोनों चीजे शिवरात्रि के दिन शिवमंदिर में अर्पित करने से  आपका तनाव कम होगा और जीवन में  स्थिरता आती है।

भगवान शिव जी को प्रसन्न करने के और बहुत सारे उपाय है आप उनका भी प्रयोग कर सकते हे हमने आपको जो उपाय सरल ओऱ सामान्य हे वही बताएं है। ताकि सब लोग़ इसका लाभ ले  सकते हे इसको ध्यान में रखते हुए।

उपवास : का अर्थ


उप - यानि - समीप ( निकट )
वास - यानि -  निवास

उपवास  का अर्थ  हे भगवान के निकट  वास करना यानि सच्चे मन से उपवास के दिन  भगवांन की भक्ति करना। सरल भाषा में तो उपवास का अर्थ  यही है ।


अतः में आप सभी को महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामना . आप सभी का जीवन हमेशा सुख समृद्धि से भरा रहे  यही कामना करते हैं 
ॐ नमः शिवाय।


आपको हमारी यह जानकारी केसी लगी कॉमेंट बॉक्स में अपनी राय दे धन्यवाद।

No comments:

Post a Comment